Treatment of Corona Virus (कोरोना वायरस: रोकथाम और उपचार)

Treatment of Corona Virus (कोरोना वायरस: रोकथाम और उपचार)
नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत सरकार (Union Government) के आयुष मंत्रालय के तहत अनुसंधान परिषदों ने भारतीय पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों के आधार पर सलाह जारी की है। आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी पद्धतियों को कोरोना वायरस संक्रमण में लक्षणों के आधार पर उपचार प्रबंधन में उपयोगी बताया गया है। 
पंरपरागत पद्धतियों  के अनुसार इन निवारक प्रबंधन कदम सुझाए गए 
-
व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखें।
-
अपने हाथों को साबुन से 20 सेकेंड तक धोएं। 
-
शादांग पनिया (मुस्ता, परपाट, उशीर, चंदन, उडिय़ा और नागर) संसाधित पानी (1 लीटर पानी में उबला हुआ 10 ग्राम      पाउडर, जब तक यह आधा तक कम न हो जाए) पी लें। इसे एक बोतल में स्टोर करें और प्यास लगने पर पिएं।
-
अंजान हाथों से अपनी आंखें, नाक व मुंह छूने से बचें।
-
बीमार होने पर घर पर रहें।
-
खांसी या छींक के दौरान अपना चेहरा ढंक लें और खांसने या छींकने के बाद अपने हाथों को धो लें।
-
संक्रमण से बचने के लिए यात्रा या काम करते समय एक एन 95 मास्क का उपयोग करें।
-
स्वस्थ आहार और जीवन शैली के माध्यम से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए उपाय करें।

आयुष मंत्रालय ने सेंट्रल काउंसिल फॉर रिसर्च इन होम्योपैथी (सीसीआरएच) ने मंगलवार को अपने वैज्ञानिक सलाहकार बोर्ड की 64 वीं बैठक में कोरोमोवायरस संक्रमण से बचाव के तरीकों और साधनों पर चर्चा की। विशेषज्ञों के समूह ने सिफारिश की है कि होमियोपैथी दवा आर्सेनिकम एल्बम 30 को कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ रोगनिरोधी दवा के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। जिसे आईएलआई की रोकथाम के लिए भी उपयोगी पाया गया है।
खुराक को एक महीने बाद दोहराया जाना चाहिए
विशेषज्ञों ने आर्सेनिकम एल्बम 30 के एक डोज की सिफारिश की है, जो प्रतिदिन खाली पेट में तीन दिनों के लिए लिया जा सकता है। विशेषज्ञों के मुताबिक खुराक को एक महीने के बाद दोहराया जाना चाहिए ताकि समुदाय में प्रबल होने वाले कोरोनोवायरस संक्रमण के उसी शेड्यूल का पालन किया जा सके। विशेषज्ञ समूह ने स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा हवाई-संक्रामक संक्रमणों की रोकथाम के लिए सामान्य स्वास्थ्यकर उपायों पर जोर दिया है। 
इन औषधियों से मिलेगा लाभ 
-
अगस्त्य हरितकी 5 ग्राम, दिन में दो बार गर्म पानी के साथ।
-
शेषमणि वटी 500 मिलीग्राम दिन में दो बार।
-
त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम और तुलसी 3-5 पत्तों (1-लीटर पानी में उबाला जाता है, जब तक कि यह आधा लीटर तक कम नहीं हो जाता है और इसे एक बोतल में रख दिया जाता है) इसे आवश्यकतानुसार और जब  चाहे तब घूंट में लेते रहें।
-
प्रतिमा नस्य : नथुनों (नाक के छिद्र)  में प्रतिदिन सुबह-शाम अनुनाला / तिल के तेल की दो बूंदें डालें।
-
इन औषधियों के उपयोग से पहले पंजीकृत आयुर्वेद चिकित्सकों से जरूर परामर्श ले लें। 
यूनानी दवाओं में भी दम 
-
शरबतउन्नब 10-20 मिली दिन में दो बार
-
त्रियाक अरब 3-5 मिली दिन में दो बार
-
त्रियाक नाजला 5 मिली दिन में दो बार
-
खमीरामार्वर दिन में एक बार 3-5 मिली
स्कैल्प और छाती पर रोगनबाबूना / रोगन मॉम / कफूरी बाम से मालिश करें
-
नथुने में रोगनबनाफसा डाल सकते हैं 
-
अर्कअजीब 4-8 बूंद ताजे पानी में लें और दिन में चार बार इस्तेमाल करें
-
बुखार होने की स्थिति में हवावे इक्सीरबुखार की 2 की गोलियां गुनगुने पानी के साथ दिन में दो 
   
बार लें।
-
शरबतनाजला 10 मिली 100 मिली गुनगुने पानी में दो बार रोजाना पिएं।
कुरस ए सुआल 2 गोलियों को प्रतिदिन दो बार चबाना चाहिए
-
इन औषधियों के उपयोग से पहले पंजीकृत आयुर्वेद चिकित्सकों से जरूर परामर्श ले लें। 
कोरोना वायरस:
रोकथाम और उपचार प्रबंधन
के लिए होम्योपैथी और यूनानी
पद्धति उपयोगी

For Download Click Below.

कोरोना वायरस: रोकथाम और उपचार


Previous
Next Post »